खबर अभी अभी

हिसार रेलवे स्टेशन पर 112 साल पुराना पुल किया रेलवे ने बंद जर्जर स्थिति में है

हिसार। स्थानीय रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के लिए लाइफ लाइन का काम कर रहा करीब 112 वर्ष पुराना फुट ओवरब्रिज शनिवार को बंद कर दिया गया। इसे बंद करने के आदेश रेलवे की चीफ सेफ्टी ऑफिसर अरुणा सिंह ने वीरवार को अपने दौरे के दौरान दिए थे। स्थानीय अधिकारियों ने उनके आदेशों का 48 घंटे के भीतर पालन किया, लेकिन यात्रियों को होने वाली परेशानियों का कोई ऑप्शन नहीं रखा गया। इस कारण शनिवार को सैकड़ों यात्री जान जोखिम में डालकर रेलवे ट्रैक पार करते रहे। 

हालांकि रेलवे द्वारा साइड में दूसरा फुट ओवरब्रिज तैयार किया जा रहा है, लेकिन इसके निर्माण में अभी आठ महीने लगने संभावित हैं, क्योंकि इस काम के लिए अभी तक फिलहाल पिलर लगाने तक का ही काम हुआ है। अरुणा सिंह ने अपने आदेशों में इस नए ब्रिज के निर्माण कार्य में तेजी लाकर इसका निर्माण जल्द पूरा करने को भी कहा था। रेलवे ने अस्थायी तौर पर एक ओवरब्रिज बनाया है, लेकिन उसकी दूरी करीब 300 मीटर है, जिस कारण यात्री उसका उपयोग करने से बच रहे हैं और जान जोखिम में डालकर ट्रैक पार करने के ऑप्शन को सुगम मान रहे हैं। 
फुट ओवरब्रिज बंद
शनिवार से रेलवे ने फुट ओवरब्रिज बंद कर दिया। इसका कोई किसी भी तरीके से उपयोग न कर पाए, इसके लिए प्रशासन द्वारा जालियां भी लगा दी गई हैं। साथ ही कई संकेतक भी लगाए गए हैं। 
…फिर भी नहीं मान रहे लोग
रेलवे द्वारा पुल को बंद करने के लिए भले ही जालियां लगा दी गई हैं और संकेतक भी लगाए गए हैं, लेकिन लोग फिर भी नहीं मान रहे हैं। यहां पर किसी पुलिस कर्मी की तैनाती नहीं होने से लोग जान जोखिम में डाल रहे हैं। जालियों को क्रॉस करने के लिए लोगों ने अपना ही तरीका निकाल लिया है। लोग पाइपों के ऊपर चढ़कर जाली को पार कर रहे हैं, लेकिन यह इतना खतरनाक है कि यदि थोड़ी सी चूक हो तो सीधे करीब 25 फुट नीचे गिरेंगे, जिससे गंभीर हादसा हो सकता है। इसके अलावा लोग ट्रैक पर खड़ी ट्रेन के दो बोगियों के जोड़ पर चढ़कर ट्रैक पार कर रहे हैं। 
दिव्यांगों-बुजुर्गों को सबसे अधिक दिक्कतें
ब्रिज बंद होने का सबसे अधिक नुकसान दिव्यांगों और बुजुर्गों को हुआ है। बुजुर्गों को या तो 300 मीटर दूर का चक्कर लगाना पड़ता है या फिर जैसे-तैसे रिस्क लेकर ट्रैक को पार करना होता है। शनिवार को पहले ही दिन स्थिति भयावह बनी हुई थी। कई दिव्यांगों को उनके परिजन पीठ पर बैठाकर ट्रैक पार करवा रहे थे तो दूसरी ओर बुजुर्ग जाली को पार करने के लिए पाइपों को पार करते देखे गए। 

वीरवार को दौरे पर आई थीं सेफ्टी ऑफिसर
रेलवे की चीफ सेफ्टी ऑफिसर अरुणा सिंह वीरवार को जयपुर से हिसार दौरे पर आई थीं। इस दौरान उन्होंने निरीक्षण करते हुए अधिकारियों को नए ब्रिज के निर्माण कार्य में तेजी लाते हुए जल्द तैयार करने के साथ पुराने ब्रिज को बंद करने के आदेश दिए थे। इससे पहले बीकानेर रेलवे मंडल के वरिष्ठ मंडलीय अभियंता सतीश कुमार मीणा भी चार जनवरी को हिसार रेलवे स्टेशन का दौरा कर चुके हैं। उन्होंने भी यहां चल रहे कार्यों की जांच पड़ताल के दौरान नए बन रहे फुट ओवरब्रिज के निर्माण में तेजी लाने के निर्देश दिए थे। 
कंडम घोषित किया जा चुका था ब्रिज
पुराना फुट ओवरब्रिज करीब 112 साल पुराना है। इसे अंग्रेजों के समय में तैयार किया गया था। रेलवे द्वारा निरीक्षण के बाद इस ब्रिज को कंडम घोषित किया जा चुका था और इसको तोड़ने की मियाद भी 31 मार्च 2019 निर्धारित की गई थी। इसके लिए विभाग द्वारा टेंडर भी कई बार जारी किए गए, लेकिन किसी ठेकेदार ने इस टेंडर को छुड़वाने में रुचि नहीं दिखाई थी। 

अधिकारियों के निर्देशानुसार फुट ओवरब्रिज को बंद किया गया है। वीरवार को दौरे पर आईं चीफ सेफ्टी ऑफिसर अरुणा सिंह ने इसे तुरंत प्रभाव से बंद करने के आदेश दिए थे। ब्रिज के दोनों ओर जालियां भी लगाई गई हैं। 
– महेंद्रपाल चुघ, स्टेशन अधीक्षक, हिसार।

About SOBH NATH

कबीर का सन्देश (KABIR KA SANDESH) ऐसा सच जो भौतिकवाद को नस्ट कर के जीने की नई राह दिखाता , जिंदगी जीने की कला का पुनर्वालोकन सृजन करहता हुआ आपके रूबरू हुआ , KABIRKIRAN.COM विश्र्व के हर बुद्धिजीवी को समर्पित समाचार पत्र जो हर पहलु से आप से सरोकार रखता है , पढ़े ,पढ़ाएं , जीवन की नई शुरुआत की बुनियाद बनायें ! Contact: Website | More Posts

Leave a comment

Your email address will not be published.


*